Binjari E Hans Hans Bol | बिणजारी ए हँस हँस बोल

बिणजारी ए हँस हँस बोल, प्यारी प्यारी बोल, बाता थारी रह ज्यासी, बिणजारो मत जाण बातां रह ज्यासी कंठी माला काठ की रे माही रेशमी सूत सूत बिचारा के कर जद कातण वाला कपूत रामा तेरे बाग़ में रे लाम्बी भदी खजूर चढूं तो मेवा चाख ल्यूं पड़ते ही चकनाचूर बालपणे में भज्यो नहीं रे …

Binjari E Hans Hans Bol | बिणजारी ए हँस हँस बोल Read More »