Ratinath ji Bhajan

Mangal Ki Mool Bhawani Sharna Tera Hai | मंगल की मूल भवानी शरणा तेरा है

मंगल की मूल भवानी शरणा तेरा है,शरणा तेरा है, आसरा तेरा है, शरणा तेरा है ॥टेर॥ मैया है ब्रह्मा की पुतरी, लेकर ज्ञान सवर्ग से उतरी,आज तेरी कथा बनाय देई सुथरी, प्रथम मनाया है ॥1॥ मैया भवन बणा जाली का, हार गूंथ ल्याया है माली का,हो ध्यान घर कलकत्ते वाली का, पुष्प चढ़ाया है ॥2॥ …

Mangal Ki Mool Bhawani Sharna Tera Hai | मंगल की मूल भवानी शरणा तेरा है Read More »

Ganesh Aaya Riddhi Siddhi lyaya | गणेश आया रिद्धि सिद्धि ल्याया

गणेश आया रिद्धि सिद्धि ल्याया, भरया भण्डारा रहसी ओ राम,मिल्या सन्त उपदेशी गुरु मोंयले री बाताँ कहसी ,ओ राम म्हान झीणी झीणी बाता कहसी ॥टेर॥ हल्दी का रंग पीला होसी, केशर कद बण ज्यासी ॥1॥ कोई खरीद काँसी, पीतल, सन्त शब्द लिख लेसी ॥2॥ खार समद बीच अमृत भेरी, सन्त घड़ो भर लेसी ॥3॥ खीर खाण्ड का अमृत भोजन, सन्त नीवाला लेसी …

Ganesh Aaya Riddhi Siddhi lyaya | गणेश आया रिद्धि सिद्धि ल्याया Read More »